Ticker

6/recent/ticker-posts

सरकार द्वारा बढाया गया मात्र ₹20 कुंतल प्रदेश के गन्ना किसान किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेंगे••गन्ना उत्पादन लागत 525 रुपए कुंतल तो गन्ना मूल्य मात्र ₹370 क्यों••भगत सिंह वर्मा

सरकार द्वारा बढाया गया मात्र ₹20 कुंतल प्रदेश के गन्ना किसान किसी भी कीमत पर स्वीकार नहीं करेंगे••गन्ना उत्पादन लागत 525 रुपए कुंतल तो गन्ना मूल्य मात्र ₹370 क्यों••भगत सिंह वर्मा

विरेन्द्र चौधरी 

देवबंद -आज यहां ग्राम गंगदासपुर जाट में किसानों की बैठक को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन वर्मा व पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि भाजपा की योगी सरकार ने गन्ने का मूल्य मात्र ₹20 कुंतल बढाकर किसानों के साथ क्रूर मजा किया है जो नाकाफी है। 

किसान नेता ने कहा छोटा राज्य हरियाणा में गन्ने का मूल्य पहले से ही 386 रुपए कुंतल है। और पंजाब राज्य में 391 कुंतल है। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि कृषि यंत्र बीज खाद कीटनाशक डीजल लेबर महंगा होने के कारण इस वर्ष गन्ने की उत्पादन लागत 525 रुपए कुंतल आई है। गन्ना शोध संस्थान करनाल हरियाणा और गन्ना शोध संस्थान शाहजहांपुर की उत्पादन लागत ₹400 कुंतल दर्शाई गई है जो सही नहीं है। देश के महान कृषि वैज्ञानिक और हरित क्रांति के जनक डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार सीटू प्लस 50% के अनुसार गन्ने का लाभकारी मूल्य कम से कम ₹600 कुंतल होना ही चाहिए जो प्रदेश के गन्ना किसानों को नकद आसानी से दिया जा सकता है। 

भगत सिंह वर्मा ने कहा कि चीनी मिलों में गन्ना से चीनी के साथ शीरा भी बनता है। और शीरा से अल्कोहल बनता है। अल्कोहल से देसी और अंग्रेजी शराब बनने पर प्रदेश सरकार को प्रतिवर्ष 45 हजार करोड़ रूपए एक्साइज ड्यूटी के रूप में राजस्व प्राप्त होता है जबकि गन्ने की कीमत प्रति वर्ष 35 हजार करोड रुपए से भी काम बैठती है। भगत सिंह वर्मा ने बताया कि कोल्हू व क्रेशर पर नगद ₹430 कुंतल गन्ना बिक रहा है इसलिए किसान चीनी मिलों को ₹370 कुंटल में अपना गन्ना नहीं देंगे। इस वर्ष चीनी मिल मालिक भी₹35 कुंतल गन्ना मूल्य बढ़ाने को तैयार थे। चुनावी वर्ष में गन्ना मूल्य मात्र ₹20 कुंतल बढाकर भारतीय जनता पार्टी ने अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली है और प्रदेश के गन्ना किसान 2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को वोट नहीं देंगे। 

भगत सिंह वर्मा ने प्रधानमंत्री मोदी जी को एक पत्र लिखकर उत्तर प्रदेश में प्रदेश के गन्ना किसानों को गन्ने का लाभकारी मूल्य ₹600 कुंतल दिलाने की मांग की। भगत सिंह वर्मा ने भाजपा की योगी सरकार को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि यदि योगी सरकार ने पुनर्विचार करके गन्ने का लाभकारी मूल्य ₹600 कुंतल नहीं किया और चीनी मिलों से बकाया गन्ना भुगतान तुरंत नहीं दिलाया और पिछले वर्षों में देने से किए गए गन्ना भुगतान पर लगा ब्याज करना किसानों को नहीं दिलाया तो प्रदेश में सरकार चीनी मिल माली को के खिलाफ बड़ा आंदोलन किया जाएगा और 2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा का विरोध किया जाएगा। 

बैठक की अध्यक्षता चौधरी कृपाल सिंह ने की और संचालन जिला उपाध्यक्ष मोहम्मद वसीम जहीरपुर ने किया। बैठक में भारतीय किसान यूनियन वर्मा के प्रदेश सचिव ऋषिपाल प्रधान गुर्जर जिला मंत्री महबूब हसन चौधरी बाबूराम अमित कुमार पदम सिंह रविंद्र सिंह आजाद सिंह पप्पू सुभाष शर्मा मोंटी चौधरी जोगिंदर गिल सुनीराम फौजी अभिषेक चौधरी सुमित वर्मा प्रहलाद सिंह सुशील भगत जी हाजी सुलेमान यासीन त्यागी आकाश चौधरी  दीपक चौधरी महेंद्र सिंह आदि ने भाग लिया।


Post a Comment

0 Comments