Ticker

6/recent/ticker-posts

देश के अनंदाता किसानों को दिल्ली जाने से रोकना भाजपा को पड़ेगा महंगा - भगत सिंह वर्मा

भाजपा की केंद्र और प्रदेश सरकार किसानों से ब्रिटिश हुकूमत जैसा व्यवहार कर रही हैं •• किसानों को चाहिए अपनी फसलों का लाभकारी मूल्य •• देश के अनंदाता किसानों को दिल्ली जाने से रोकना भाजपा को पड़ेगा महंगा भगत सिंह वर्मा


विरेन्द्र चौधरी 

सहारनपुर देवबंद-आज यहां ग्राम गंगदासपुर जट में भारतीय किसान यूनियन वर्मा व पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा की मीटिंग के बाद किसानों का जत्था राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा के नेतृत्व में दिल्ली प्रस्थान किया ।इस अवसर पर किसानों की बैठक को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन वर्मा व पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि भाजपा की भाजपा की मोदी सरकार व योगी सरकार देश के अन्नदाता किसानों से ब्रिटिश हुकूमत जैसा व्यवहार कर रही है। देश के अन्नदाता किसानों की समस्याओं को हल करने के बजाय भाजपा सरकार किसानों को दिल्ली जाने से रोक रही है और किसानों पर आंसू गैस बल प्रयोग और रास्ते में अवरोध खड़े कर रही है। जिससे किसानों में भारी उबाल व रोष उत्पन्न हो गया है। सरकारी शक्ति और पुलिस बल से किसानों को रोकना लोकसभा चुनाव में भाजपा को काफी महंगा पड़ेगा।

 राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को देश के किसान नेताओं संयुक्त किसान मोर्चा अराजनीतिक से ससम्मान बात करके किसानों को दिल्ली बुलाकर उनकी समस्याओं को हल करना चाहिए। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि सरकारों की गलत नीति के कारण देश के किसान कर्ज मंद हुए हैं इसलिए भाजपा की मोदी सरकार को देश के अन्नदाता किसानों के सभी कर्ज समाप्त कर देने चाहिए। हरित क्रांति के जनक महान कृषि वैज्ञानिक भारत रत्न से सम्मानित डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करके देश के किसानों को उनकी फसलों का लाभकारी मूल्य दिलाया जाए। देश के सभी किसानों को निशुल्क बिजली व ₹50 डीजल कृषि कार्य हेतु उपलब्ध कराया जाए। मनरेगा योजना को सीधा खेती से जोड़कर किसानों को मजदूर उपलब्ध कराए जाएं। देश के सभी 58 वर्ष से ऊपर के किसानों मजदूरों व छोटे व्यापारियों को ₹5000 प्रति माह वृद्धावस्था पेंशन दिलाई जाए। किसानों की सभी फसलों का लाभकारी मूल्य देकर एम एस पी घोषित करके गारंटी कानून बनाया जाए। 

किसान नेता कहा किसान आंदोलन में शहीद हुए सभी किसानों को शहिद का दर्जा देकर प्रत्येक किसान को 5 लाख रुपए मुआवजा और सभी मुकदमे वापस लिए जाएं। लखीमपुर खीरी कांड में दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाए। किसानों की भूमि को अनावश्यक अधिग्रहण न किया जाए। देश की ₹140 करोड़ जनता के लिए निशुल्क शिक्षा व चिकित्सा दिलाई जाए। देश और प्रदेशों से भ्रष्टाचार को समाप्त कराया जाए। राष्ट्रीय किसान आय आयोग का गठन कराया जाए। सभी राज्यों में राज्य किसान आयआयोग का गठन किया जाए। खेती को लाभकारी बनाकर देश के 5 करोड़ शिक्षित युवाओं को रोजगार दिलाया जाए। देश में लगातार बढ़ रही महंगाई गरीबी बेरोजगारी कमीशन खोरी भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं। 

बैठक की अध्यक्षता करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय सलाहकार हाफिज मुर्तजा त्यागी ने कहा कि किसान देश की आर्थिक रीढ़ है। देश के अन्नदाता किसानों की उन्नति से ही देश की उन्नति संभव है। देश को उन्नत सील विकसित और महान बनाने के लिए देश के प्रधानमंत्री जी और भाजपा के नेताओं को पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी कृषि वैज्ञानिक डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन को समझना होगा। आज देश का अन्नदाता किसान कठिन दौर से गुजर रहा है उसे उभारने के लिए लुटियन दिल्ली जोन में बैठे हुए नेताओं को ठोस कदम उठाने होंगे। 

बैठक का संचालन भारतीय किसान यूनियन वर्मा के प्रदेश सचिव रिशिपाल प्रधान गुर्जर ने किया। बैठक मे मौहम्मद भूरा त्यागी, यासीन त्यागी, अमरदीप मान, विक्की चौधरी, धनपाल सिंह, महिपाल सिंह, अमित कुमार, जितेंद्र चौधरी, रविंद्र चौधरी,पदम सिंह, आजाद सिंह पप्पू,गुरजीत सिंह, प्रहलाद सिंह, रविंद्र गिल, भूपेंद्र गिल,आकाश चौधरी, पदम सिंह, प्रदीप चौधरी,सोनी राम फौजी,निशांत शर्मा,बृजभूषण शर्मा, सुभाष त्यागी, सुरेश कुमार,कलम सिंह, रवि शास्त्री, सुमित वर्मा आदि ने भाग लिया।


Post a Comment

0 Comments