Ticker

6/recent/ticker-posts

हमारा धर्म देश खेत की माटी है।इसके लिए हम कुर्बानी को तैयार हैं - जहीर तुर्की, किसानों के लिए आखरी दम तक लड़ते रहेंगे— आसिम मलिक

किसानों के लिए आखरी दम तक लड़ते रहेंगे— आसिम मलिक •• भारतीय किसान यूनियन वर्मा ने चमारी खेड़ा टोल पर ज़ोरदार प्रदर्शन किया

विरेन्द्र चौधरी/अरविन्द चौहान 

सहारनपुर-आज यहां चमारी खेड़ा टोल पर भारतीय किसान यूनियन वर्मा के पदाधिकारी ने टोल फ्री करने का काम किया। भारतीय किसान यूनियन वर्मा के प्रदेश महामंत्री आसिम मलिक ने कहा कि देश के किसानों के लिए आखिरी दम तक लड़ते रहेंगे।

आसिम मलिक ने कहा कि आज भारत बंद को सफल बनाने के लिए हमारे किसानों के संयुक्त नेता राकेश टिकैत द्वारा आह्वान किया गया था।उनके समर्थन में  हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा जी द्वारा आह्वान किया गया। हमने भारत बंद को सफल बनाने के लिए भारतीय किसान यूनियन वर्मा के सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने चमारी खेड़ा टोल को फ्री कर दिया और चेतावनी दी यदि सरकार एमएसपी के गारंटी कानून नहीं बनाएगी किसानों को उनकी फसलों का लाभकारी मूल्य घोषित नहीं करेगी,तब तक भारतीय किसान यूनियन वर्मा के कार्यकर्ता व पदाधिकारी संघर्ष करते रहेंगे। आसिम  मलिक ने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है यदि इसमें कोई दुखी है तो सबसे ज्यादा दुखी इस देश का किसान है। किसान लगातार आत्महत्या करने पर मजबूर है किसान और डूबता ही जा रहा है जबकि भाजपा की केंद्र में प्रदेश सरकार किसान विरोधी लाइन पर चल रही है।

 भारतीय किसान यूनियन वर्मा को महानगर अध्यक्ष ज़हीर तुर्की ने कहा कि किसानों का शोषण  में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। तुर्की ने कहा भारतीय किसान हिंदू मुसलमान सिख जाट गुर्जर यादव कुर्मी,छोटा बड़ा नहीं है। हमारा धर्म देश खेत की माटी है।इसके लिए हम कुर्बानी को तैयार हैं।

इस दौरान भारतीय किसान यूनियन वर्मा के जिलामंत्री मंसूर गय्यूर आलम राव सरवर मुजाहिद खान जीशान सलमानी अकमल तबरेज मलिक अजय कुमार हाजी साहू उर रहमान शेर खान प तुफैल मलिक शुभम कुमार आदि मोजूद रहे।


किसान आंदोलन, किसान समाज,जाट खापों, पश्चिम प्रदेश के समाचार को delhidawn.in में प्रमुखता के साथ अपडेट प्रकाशित किया जाता है। सरकारी सहायता या अन्य किसी तरह की सहायता हमें नहीं मिलती। हम अपने स्टुडियो को बेहतर बनाना चाहते हैं। अनुरोध ::इसके लिए आपके आर्थिक सहयोग की आवश्यकता है। उम्मीद है हमें सहायता मिलेगी। सम्पादक विरेन्द्र चौधरी पेटीएम 8057081945

Post a Comment

0 Comments