Ticker

6/recent/ticker-posts

निहत्ते और असहाय किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़ने लाठी चार्ज करना सड़क पर कीले ठोकना दिल्ली जाने से रोकना मोदी सरकार को पड़ेगा मंहगा - भगत सिंह वर्मा

किसान हो कर्ज मुक्त मिले लाभकारी मूल्य मनरेगा को जोड़ा जाए खेती से-अन्नदाता किसानों के साथ भाजपा मोदी सरकार का ब्रिटिश हुकूमत जैसा व्यवहार बर्दाश्त नहीं होगा- भगत सिंह वर्मा

विरेन्द्र चौधरी 

सहारनपुर।शंभू बॉर्डर पंजाब -आज यहां शंभू बॉर्डर पर देश और दुनिया में इतिहास बनाने वाले अन्नदाता किसानों संयुक्त किसान मोर्चा गैर राजनीतिक के लाखों किसानों को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन वर्मा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि भाजपा की मोदी सरकार हिटलर शाही रवैया अपनाते हुए देश के अन्नदाता किसानों के साथ दमनकारी नीति अपना रही है जिस देश के अंदआता किसान इस बार किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे।

 पश्चिम प्रदेश के किसान नेता वर्मा ने कहा शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे निहत्ते और असहाय किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़ने लाठी चार्ज करना सड़क पर कीले ठोकना दिल्ली जाने से रोकना मोदी सरकार को महंगा पड़ेगा। राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि देश के अन्नदाता किसानों को मोदी सरकार एम एस पी की गारंटी दे। देश के अन्नदाता किसानों को उनकी फसलों का लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए महान कृषि वैज्ञानिक डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करें। मनरेगा योजना को सीधा खेती से जोड़कर किसानों को खेती के लिए मजदूर उपलब्ध कराए बिजली अध्यादेश 2020 वापस ले। आंदोलन के दौरान किसानों के सभी मुकदमे वापस किए जाएं देश और  उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों को गन्ने का लाभकारी मूल्य ₹600 कुंतल दिलाया जाए चीनी मिलों से 14 दिन के अंदर गन्ना भुगतान दिलाया जाए। चीनी चीनी मिलों से देरी से किए गए गन्ना भुगतान पर लगा ब्याज गन्ना किसानों को दिलाया जाए। 

चेतावनी देते हुए भगत सिंह वर्मा ने कहा लखीमपुर खीरी में किसान की हत्या में शामिल गृह राज्य मंत्री टोनी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया जाए। मृतक किसानों को 15 लख रुपए मुआवजा और एक आदमी को नौकरी दिलाई जाए। देश के किसानों को कर्ज मुक्त करा जाए 58 वर्ष से अधिक बुजुर्ग किसानों में मजदूरों को ₹10000 प्रति माह वृद्धावस्था पेंशन दिलाई जाए। 

 भारतीय किसान यूनियन वर्मा के राष्ट्रीय सलाहकार हाफिज मुर्तजा त्यागी ने कहा कि देश के अन्नदाता किसान दिल्ली अपनी मांगों के लिए जा रहे हैं।उन्हें दिल्ली जाने से भाजपा की केंद्र और हरियाणा सरकार द्वारा बॉर्डर पर रोकना भाजपा को काफी महंगा लोकसभा चुनाव में पड़ेगा। इतनी ज्यादती तो शायद अंग्रेजी हुकूमत में भी किसानों के साथ नहीं की गई होगी। प्रधानमंत्री मोदी जी हस्तक्षेप करके तत्काल किसने की समस्याओं को हल करने का काम करें। आंदोलन में भाग  लेते हुए भारतीय किसान यूनियन वर्मा के प्रदेश महामंत्री संदीप धीमान एडवोकेट ने कहा कि किसान देश के 140 करोड लोगों के लिए खाद्यान्न पैदा कर रहा है। इसके बावजूद भी किसानों को अपने हकों के लिए सड़कों पर आंदोलन करना पड़ रहा है यह दिल्ली लुधियाना में बैठे हुए भाजपा के नेताओं के लिए श्रम की बात है जिसे आप किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अन्नदाता किसानों की समस्या हल होने तक संघर्ष जारी रहेगा।

भारत रत्न दो भाजपा में शामिल करो 

Post a Comment

0 Comments