Ticker

6/recent/ticker-posts

राम कसम नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह, अमित शाह, उमा भारती के साथ योगी आदित्य नाथ ने भी बुंदेलखंड को छला - भानू सहाय

विरेन्द्र चौधरी 


  झांसी। बुंदेलखंड निर्माण मोर्चा के अध्यक्ष भानू सहाय के नेतृत्व में अधिवक्ताओं को राम की कसम खिलाते हुए न्यायालय प्रांगण में स्टीकर लगाए एवं पर्चे बांटे गये। पर्चे बांटने एवं स्टीकर लगाने मैं अधिवक्ताओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया साथ ही संकल्प लिया कि इस बार छलियो को हराकर ही दम लेंगे।
       मोर्चा द्वारा अधिवक्ताओं को बताया गया कि बुंदेलखंड राज्य निर्माण तीन साल के भीतर करवा देने का वचन हम बुंदेलियो को देकर दस साल गुजर जाने पर वचन पूरा नहीं कर नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह एवं उमा भारती ने बुंदेलखंड वासियों को छला है। भानू प्रताप सहाय ने कहा बुंदेलखंड क्षेत्र से अवैध खनन खत्म करके सभी बुंदेलियो को एक मारुति कार देंगे। किसी भी बुंदेली को मारुति कार नहीं देकर एवं अवैध खनन को नहीं रोककर अमित शाह ने  बुंदेलखंड वासियों को छला है। इसी प्रकार उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र के विधायक पृथक राज्य की मांग न उठाए इसलिए बुंदेलखंड विकास बोर्ड का झुनझुना थमाकर बुंदेलखंड के विधायकों की आवाज दबाने का कार्य किया और अब विकास बोर्ड का नवीनीकरण नहीं कर योगी आदित्य नाथ ने बुंदेलखंड के निवासियों को छला है।
                   HIGHLIGHTS
•    राम कसम नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह, अमित शाह, उमा भारती के साथ योगी आदित्य नाथ ने भी बुंदेलखंड को छला - भानू सहाय
  पहले बुंदेलखंड विकास बोर्ड का झुनझुना थमाकर बुंदेलखंड को छला,अब योगी द्वारा बोर्ड का नवीनीकरण भी नहीं करा योगी ने छला
       आंदोलनकारी भानू सहाय ने कहा    बुंदेलखंड के जनप्रतिनिधियों में हमीरपुर सांसद पुष्पेन्द्र सिंह चंदेल को छोड़कर आठ सांसद क्रमशः भानू वर्मा, वीरेंद्र खटीक, विष्णु दत्त शर्मा, अनुराग शर्मा, आर. के. पटेल एवं संध्या राय ने भी अपने निजी स्वार्थ एवं डर के कारण लोक सभा में बुंदेलखंड राज्य निर्माण की आवाज नहीं उठाकर  बुंदेलखंड के निवासियों को छला है। उन्होंने कहा हम बुंदेली श्री राम राजा सरकार के प्रति सच्ची श्रद्धा एवं आस्था रखते है साथ ही राम राजा सरकार धाम ओरछा को राजधानी बनाने के लिए  " तुम्हें राम की कसम" है कि इन छलियों को चुनाव में हरा कर अपनी मातृभूमि बुंदेलखंड से छलावा करने वालों को अपने पूर्वजो की शौर्य गाथाओं को स्मरण करते हुए सबक सिखाने का कार्य कीजिए।
        राम की कसम के स्टिकर लगाने, पर्चे बांटने एवं राम बंधन बांधने वालों में अधिवक्ता अशोक सक्सेना, रघुराज शर्मा, वरुण अग्रवाल, अनिल कश्यप, गिरजाशंकर राय,  हनीफ खान, कलाम कुरैशी, संतोष दुवे्दी बंटी, प्रदीप गुर्जर, सईदा बेगम, प्रभूदयाल कुशवाहा आदि उपस्थित रहे।
सत्ता बदली सिस्टम नहीं बदला, सिस्टम को बदलने के लिए चाहिए छोटा राज्य, छोटे राज्य के लिए चाहिए आंदोलन, आंदोलन से जुड़ने के लिए कॉल करें विरेन्द्र चौधरी 8057081945

             

Post a Comment

0 Comments